UC News

आम आदमी पार्टी और BJP में क्यों मचा है घमासान?

दिल्ली विधानसभा चुनावों की घोषणा हालाँकि अभी तक हुई नहीं है।लेकिन इससे पहले ही आम आदमी पार्टी और BJP दिल्ली विधानसभा चुनावों को लेकर आमने सामने हैं।

अरविंद केजरीवाल जहाँ BJP पर ये आरोप लगा रहे हैं कि केंद्र में सरकार होने के बावजूद भी BJP ने दिल्ली के लिए कोई अच्छा रोड मैप आने वाले विधानसभा चुनावों के लिए तैयार नहीं कर पायी है। वहीं आम आदमी पार्टी ने दिल्ली को एक मज़बूत सरकार दी है।साथ ही दिल्ली के लोगों के लिए सार्थक क़दम उठाते हुई उनकी सुविधाओं में इज़ाफ़ा करने में भी क़ामयाब रही है।जिसमें दिल्ली में सरकारी स्कूलों में शिक्षा व्यवस्था को मज़बूत करने के साथ साथ दिल्ली के सरकारी अस्पतालों को भी दुरुस्त किया गया है। इतना ही नहीं दिल्ली सरकार ने दिल्ली के लोगों के लिए सस्ती बिजली पानी भी उपलब्ध करवायी है।

वहीं, दूसरी ओर,दिल्ली प्रदेश BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी ने आम आदमी पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा। केजरीवाल ने एक बार फिर से दूसरे राज्य के लोगों के प्रति घृणा का भाव दिखाया है ।उन्होंने पूछा,कि अगर UP बिहार यह किसी दूसरे प्रांत के लोग दिल्ली आकर अपना इलाज करवा ले रहे हैं तो इसमें केजरीवाल का क्या जा रहा है?

पांच लाख तक के फ़्री इलाज की व्यवस्था तो केंद्र की मोदी सरकार ने की है जबकि केजरीवाल ने दूसरे इसे दिल्ली में लागू तक नहीं होने दिया इससे उनकी मानसिकता साफ़ झलकती है। तिवारी ने कहा कि केजरीवाल ने इसे निजी दुश्मनी बनाकर दिल्ली में रह रहे पूर्वांचल यूपी,पूर्वी प्रांत के लोगों को इसकी सज़ा दी है तो ये सिर्फ़ ये उनकी बौखलाहट को ही दिखाता है।तिवारी ने कहा कि दिल्ली में रह रहे पूर्वांचली और अन्य राज्य के लोगों के लिए केजरीवाल की घृणा साफ़ दिखाई दे रही है। 

वहीं मनोज तिवारी ने आरोप लगाते हुए ये भी कहा कि केजरीवाल दिल्ली के लोगों को गुमराह कर रहे हैं। और आने वाले विधानसभा चुनाव में यही लोग उसका चुन चुनकर बदला लेंगे।विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने भी कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल UP बिहार और अन्य राज्य के लोगों को दिल्ली पर बोझ समझने की बीमार मानसिकता से ग्रसित है।दिल्ली की स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने में बुरी तरह असफल होने के बाद अब अस्पतालों में लगने वाली लंबी लाइनों और दवाइयों की क़िल्लत के लिए वे अन्य राज्य के लोगों पर दोष मढ़ रहे हैं। जबकि दूसरी ओर वे ख़ुद दिल्ली के हेल्थ के मॉडल की डेनमार्क में उपलब्ध सुविधाओं पर आधारित बता रहे है। अरविंद केजरीवाल पर मनोज तिवारी और विजेंद्र गुप्ता के अलावा विजय गोयल ने भी हमला बोला और कहा कि केजरीवाल केजरीवाल सरकार को आने वाले विधानसभा चुनावों में दिल्ली की जनता जवाब देगी।

वहीं दूसरी तरफ़ BJP पर आरोप लगाते हुए राज्यसभा सांसद और आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने कहा कि ये बड़ा ही हास्यपद है कि वे BJP शासित राज्यों में बिहार और UP के लोगों के साथ बर्बरतापूर्ण बर्ताव होता है तो ख़ामोश रहते हैं। और आज वही BJP UP और बिहार के लोगों की चिंता का ढोंग कर रही है।उन्होंने कहा कि BJP के लोग उस पार्टी पर उंगली उठा रही हैं जिस पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष पूर्वांचल से आता है और जिस पार्टी में 13 विधायक पूर्वांचल के हैं। आप सांसद ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक सीधा और सामान्य सा बयान दिया था जिसको ग़लत तरीक़े से पेश किया जा रहा है।

आम आदमी पार्टी सांसद ने कहा कि BJP आयुष्मान योजना का ढिंढोरा पीट रही है। लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि अगर आयुष्मान योजना इतनी बेहतर है तो फिर अन्य राज्य के लोग दिल्ली में इलाज कराने के लिए मजबूर क्यों हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार देश के किसी भी नागरिक के साथ कोई भेदभाव नहीं करती है।केजरीवाल सरकार की एक्सीडेंटल पॉलिसी में भी साफ़ तौर पर लिखा है। अगर देश के किसी भी हिस्से के व्यक्ति का दिल्ली में कहीं पर भी एक्सीडेंट होता है तो दिल्ली सरकार उसके इलाज का सारा ख़र्च उठाएगी। साथ ही अन्य उस घायल व्यक्ति को अस्पताल पहुँचाने वाले व्यक्ति को उसका ख़र्चा और उसके साथ इनाम भी देगी।

बहरहाल, आम आदमी पार्टी और BJP, बहारी बनाम दिल्ली के होने के दावों को लेकर एक दूसरे के आमने सामने है। और दोनों ही पार्टियां एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाते हुए ये साबित करना चाहती हैं कि वही दिल्ली के सच्चे हितैषी वही है। देखना दिलचस्प होगा कि आने वाले विधानसभा चुनावों में किसे जीत मिलती है और दिल्ली किसे चुनती है। फ़िलहाल दोनों ही पार्टी के नेताओं के बीच घमासान जारी है और दोनों ही पार्टियों के नेता अपने अपने दावे ठोक रहे हैं।

READ SOURCE
Open UCNews to Read More Articles