UC News

वर्ल्ड कप फाइनल में ओवरथ्रो पर हुई थी ICC की आलोचना, अब होंगे बड़े बदलाव

वर्ल्ड कप की समाप्ति के बाद विश्व क्रिकेट को इंग्लैंड के रूप में नया विजेता मिला। वहीं लॉर्ड्स के मैदान में खेले गए फाइनल के बाद क्रिकेट जगत में ICC के नियमों को लेकर बड़ी बहस छिड़ गई।

वर्ल्ड कप फाइनल में ओवरथ्रो पर हुई थी ICC की आलोचना, अब होंगे बड़े बदलाव
Third party image reference

इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच खेले गए फाइनल में मैच टाई रहा, जिसके बाद दोनों टीमों के बीच सुपर ओवर करवाया गया। लेकिन सुपर ओवर के भी टाई रहने की वजह से कोई परिणाम नहीं निकल पाया। इसके बाद क्रिकेट के नियम के तहत मैच और सुपर ओवर में अधिक बाउंड्री लगाने वाले इंग्लैंड को विजेता घोषित कर दिया गया।

Third party image reference

उससे पहले मैच में एक नियम पर सबसे अधिक विवाद हुआ जिसकी वजह से ही न्यूजीलैंड जीता हुआ मैच हार गई थी। अब रिपोर्ट्स के मुताबिक क्रिकेट के नियम बनाने वाली संस्था मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) अपने अगले मीटिंग में उस नियम पर चर्चा करते हुए कोई बड़ा फैसला कर सकती है।दरअसल मामला इंग्लैंड की पारी के 50वें ओवर का है। मेजबान टीम को 3 गेंदों में 9 रन की दरकार थी, तभी चौथी गेंद पर बेन स्टोक्स ने मिड विकेट की ओर शॉट खेला और तेजी से एक रन लेने के बाद दूसरा रन लेने के लिए भागे। इस दौरान दूसरा रन पूरा करने के वक्त उन्होंने स्ट्राइक एंड की तरफ डाइव लगा दी, तभी गुप्टिल का थ्रो आकर उनके बैट पर लगा और गेंद बाउंड्री पार चली गई।

Third party image reference

इसके बाद अंपायर ने आपस में बातचीत करने के बाद इंग्लैंड को 6 रन दे दिए। इस तरह जहां सिर्फ 2 रन होने चाहिए थे, वहां इंग्लैंड को 4 रन और अतिरिक्त मिल गए यानी कुल मिलाकर इंग्लैंड के खाते में 6 रन जुड़ गए। अब इंग्लैंड को आखिरी 2 गेंदों में जीत के लिए सिर्फ 3 रन की दरकार थी, जो कि मैच का टर्निंग प्वाइंट बन गया।

क्या कहता है ICC का नियम:

बाद में ICC के बेस्ट अंपायर रहे साइमन टफेल ने गलत अंपायरिंग की तरफ सभी का ध्यान खींचा। उन्होंने बताया कि क्रिकेट के 19.8 नियम के तहत अगर गेंद ओवरथ्रो पर बाउंड्री के पार चली जाए (चाहे वह गैरइरादतन बल्ले से ही क्यों न लगी हो), तो ओवरथ्रो से पहले लिए गए रनों में बाउंड्री के चार रन जुड़ जाएंगे। अगर ओवर थ्रो या फिर फील्डर के जानबूझ कर किए गए एक्ट से गेंद बाउंड्री पार कर जाती है तो इसका फायदा दूसरी टीम को मिलता है। रन लेते समय रन का फायदा तभी मिलता है, जब बल्लेबाज ने थ्रो से पहले रन पूरा कर लिया हो या फिर थ्रो से पहले ही दोनों बल्लेबाज एक दुसरे को क्रॉस कर जाते हैं।

Third party image reference

लेकिन जब मार्टिन गप्टिल ने थ्रो फेंकी, तब बेन स्टोक्स और आदिल रशीद ने दूसरे रन के लिए एक दूसरे को क्रॉस नहीं किया था। इस तरह इंग्लैंड को जहां दो रन मिले, वहां सिर्फ एक रन ही होना चाहिए था। अगर ऐसा होता तो स्ट्राइक पर स्टोक्स की जगह आदिल रशीद होते और इंग्लैंड को आखिरी 2 गेंदों में 4 रनों की जरुरत होती। 

Third party image reference


READ SOURCE
Open UCNews to Read More Articles